ALL राज्य , शहर प्रमुख खबर खेल अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
स्कूल कॉलेज अब दो तारीख तक रहेंगे बन्द ,सभी परीक्षाएं हुई स्थगित
March 17, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • राज्य , शहर

 


लखनऊ,(स्वतंत्र प्रयाग), चीन से विश्व भर में फैला कोरोना वायरस का कहर अब बढ़ता ही  जा रहा है। इससे बचाव को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार काफी सतर्क है  योगी आदित्यनाथ जी  ने कैबिनेट की बैठक के बाद प्रदेश में सभी स्कूल व कॉलेज को दो अप्रैल तक बंद करने की घोषणा की है।

कोरोना के बढ़त कहर को देखते हुए उत्तर प्रदेश के स्कूल-कॉलेजों और मल्टीप्लेक्स दो अप्रैल तक बंद कर दिए गए हैं।
 स्कूल व कॉलेज को दो अप्रैल तक बंद करने के साथ ही सरकार ने अगले आदेश तक सभी परीक्षाओं को भी स्थगित कर दिया है।
 

पहले सरकार ने सभी स्कूल-कालेज को 22 मार्च तक बंद करने का आदेश जारी किया था  यूपी रेरा ने भी कोरोना वायरस के मद्देनजर 31 मार्च तक सुनवाई स्थगित की मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में मंगलवार को हुई कैबिनेट की बैठक में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार ने बड़े फैसले लिए हैं। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि वे भीड़-भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें सरकार ने दिहाड़ी मजदूरों के लिए बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि।
 उनके भरण-पोषण के लिए निश्चित धनराशि मुहैया करवाई जाएगी योगी आदित्यनाथ सरकार ने सभी शिक्षण संस्थाओं को दो अप्रैल तक बंद करने के आदेश देते हुए प्रतियोगी परीक्षाओं समेत सभी तरह की परीक्षाओं को दो अप्रैल तक स्थगित कर दिया है। 

सरकार ने सभी पर्यटक स्थल और म्युजियम 31 मार्च तक बंद रखने का आदेश दिया है  इस दौरान वहां साफ-सफाई होती रहेगी, लेकिन पर्यटकों का प्रवेश वर्जित रहेगा। 
सभी सिनेमाघर, मल्टीप्लेक्स को भी बंद करने का आदेश दिया गया है दो अप्रैल तक सभी सिनेमा हॉल, मॉल तथा जिम को बंद रखा जाएगा।
 

प्रदेश के सभी पर्यटक स्थल 31 मार्च तक बंद रहेंगे  तहसील दिवस, समाधान दिवस और जनता दर्शन भी दो अप्रैल तक बंद रहेगा।  

कोरोना वायरस से पीड़ित का मुफ्त में जांच और इलाज 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों का मुफ्त में जांच और इलाज कराया जाएगा, एवं जो भी व्यय होगा राज्य सरकार वहन करेगी। साथ ही उनके अवकाश के दौरान वेतन में कोई कटौती नहीं की जाएगी। उन्होंने कोरोना वायरस पर केंद्र सरकार की एडवाइजरी का 100 प्रतिशत पालन करने के निर्देश दिया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आदेश दिया है कि कोरोना वायरस पीड़ित का मुफ्त में जांच और इलाज सरकार करवाएगी। प्रदेश में निजी और सरकारी कर्मचारियों को बायोमैट्रिक हाजिरी से छूट दी गई है। इसके साथ ही यथासंभव कर्मचारी अपने घर से ही काम करेंगे। इस दौरान उनके वेतन का भुगतान होता रहेगा।

RTGS के माध्यम से दिहाड़ी मजदूरों के अकाउंट में निश्चित धनराशि

प्रदेश में दूसरे स्तर पर कोरोना वायरस का असर है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि दिहाड़ी मजदूरी करने वाले लोगों का भरण-पोषण हो सके इसके लिए वित्तमंत्री की अध्यक्षता में गठित कमेटी 3 दिन में रिपोर्ट सौंपेगी  इस कमेटी में कृषि मंत्री और श्रम मंत्री को शामिल किया गया है।

सरकार दिहाड़ी मजदूरी करने वालों को एक निश्चित धनराशि आरटीजीएस के माध्म से उनके अकाउंट में भेजेगी। जिससे मजदूरों के परिवार का भरण-पोषण हो सके। सरकार ने कहा कि हम गरीबों की रोजी व रोटी सुनिश्चित करेंगे। उनके खाते में पैसे देंगे।

सरकार ने कोरोना वायरस के कहर से राहत व बचाव का अपना अभियान तेज किया है सरकार की तरफ से दलितों व गरीबों की मदद के लिए कमेटी बनी है  इसमें वित्त मंत्री,कृषि मंत्री व श्रम मंत्री हैं अब रोज कमाने खाने वालों को दिक्कत नहीं होगी। तीन दिन में कमेटी अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। कुछ धनराशि खाते में आरटीजीएस करेंगे।

सरकार ने कहा है कि कोरोना वायरस पीडि़त सरकारी कर्मचारी को सैलरी देंगे। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप का असर रोजमर्रा का काम करने वाले मजदूरों पर भी पड़ रहा है। राज्य सरकार ने रोज कमाने व रोज खाने वाले दिहाड़ी मजदूरों के भरण पोषण के लिए वित्त, श्रम और कृषि मंत्री की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाने का निर्णय लिया है।

कमेटी तीन दिन के भीतर अपनी रिपोर्ट देगी  इसके बाद आरटीजीएस के माध्यम से इन लोगों के खाते में कुछ धनराशि भेजी जाएगी। उर्जा मंत्री व सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने बताया कि, रोजमर्रा गरीबों को दिए जाने वाली राशि और संख्या का अनुमान लगाने के लिए यह कमेटी बनाई गई है, जिसकी रिपोर्ट आने के बाद उनके खातों में रुपए डाले जांएगे।

अभी पूरी तरह से दिहाड़ी मजबूरी बन्द नहीं हुई हैं। सरकार इसलिए बैकअप के लिए तैयारी कर रही है। आने वाले दिनों में अगर कोरोनो वायरस से सब बन्द हो जाता है तो यह सारी डिटेल तैयार की जा रही हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई बैठक में राज्य कर्मचारियों के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई गई है।

यह कमेटी सरकारी कार्यालयों में भीड़ खत्म करने के लिए कर्मचारियों को घर से काम करने की व्यवस्था सुनिश्चित की कराएगी इसके अलावा प्राइवेट फर्म में काम करने वालों के लिए भी घर से काम करने के निर्देश दिए गए हैं।

कैबिनेट बैठक के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने बताया कि अभी कोरोनावायरस स्टेज टू में है। मुख्यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने सभी से अपील की है कि इसके स्टेज थ्री में पहुंचने से रोकना है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि प्राइवेट फार्मों में काम करने वाले लोग घर से ही काम करें।

सरकार के लिए काम करने वाले जो लोग हैं, उनके लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई गई है। कमेटी की रिपोर्ट के बाद वर्क फ्रॉम होम पर फैसला लिया जाएगा फिलहाल जहां सुविधा है वे लोग अपने घर से ही काम कर सकते हैं सूबे में धरना-प्रदर्शन पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी जिला अधिकारियों को आदेश दिया गया है कि वे अपने जिले में स्थित धार्मिक स्थलों के प्रबंधकों और धर्म गुरुओं से संवाद स्थापित कर उन्हें जागरुक करें, जिससे कम से कम लोग आएं और भीड़ न इकट्ठा हो  इसके लिए सभी धर्मगुरु लोगों से अपील करें।

मुख्यमंत्री जी की तरफ से यह भी निर्देश दिया गया है कि कोरोना वायरस के प्रति जिला अधिकारी सभी को जागरुक करेंगे। जिला प्रशासन इस बात को सुनिश्चित करे कि मेला आदि में आने वाले लोगों को जागरुक किया जाए। ग्राम पंचायतों और नगर विकास के अधिकारियों को भी सफाई व्यवस्था सुनिश्चित करने के आदेश दिए गए हैं। 

परीक्षाओं को अगले आदेश तक स्थगित करने का भी निर्णय

लोकभवन में कैबिनेट की बैठक के साथ सभी स्कूल-कॉलेज दो अप्रैल तक बंद करने के साथ ही परीक्षाओं को अगले आदेश तक स्थगित करने का भी निर्णय लिया है। सीबीएससी तथा आईसीएससी बोर्ड की बची परीक्षाएं भी स्थगित की गई हैं। इनके साथ प्रतियोगी परीक्षाएं भी स्थगित की गई हैं।

इसके साथ ही फैसला लिया गया है कि निजी क्षेत्र के लोग घर से काम करें। सभी प्रतियोगी परीक्षाओं को भी रद करने के साथ ही प्रदेश के धार्मिक स्थलों को भी बंद किया गया है। सरकार ने सभी धर्म गुरुओं से इसमें सहयोग की अपील भी की है।

मंदिर, गुरुद्वारा तथा मस्जिद को भी बंद रखा जाएगा। सरकार ने धार्मिक गुरूओं से अपील की है कि मंदिर,मस्जिद व गुरुद्वारे में भीड़ ना हो। इस अभियान में सभी लोग साथ दें। उत्तर प्रदेश में कोरोना के पीड़ित की संख्या 13 है। जिसमें से 12 भारतीय और 1 विदेशी नागरिक हैं। इसमें से चार लोग कोरोना से पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या बढ़कर 125 हो गई है।

कर्मचारी घर से करें काम, नहीं कटेगी सैलरी

सरकार ने स्कूल-कॉलेज दो अप्रैल तक बंद रखने का आदेश जारी किया है। वहीं लोगों को घरों से काम करने का भी निर्देश दिया है। ऐसे में उनकी सैलरी नहीं कटेगी। प्रतियोगी परीक्षाएं व माध्यमिक व उच्च शिक्षा से जुड़ी परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं।  

इन प्रस्तावों पर भी लगी मुहर

फिल्म तानाजी को एसजीएसटी से मुक्त करने का प्रस्ताव।उत्तर प्रदेश जिला खनिज फाउंडेशन न्यास के नियमावली में प्रथम संशोधन का प्रस्ताव हुआ पास जनपद गोरखपुर में क्षेत्रीय विधि विज्ञान प्रयोगशाला बनाई जा रही है, उसके अंदर क्लास बी को क्लास ए किए जाने का प्रस्ताव पास। 6.56 करोड़ रुपए फारेंसिक लैब को आवंटित।

यूपी के सभी पर्यटक स्थल 31 मार्च तक बंद

ताजमहल सहित देशभर के सभी स्मारक और संग्रहालय 31 मार्च तक के लिए बंद कर दिए गए हैं। केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री प्रहलाद पटेल ने ट्वीट करके यह जानकारी दी। कोरोना के प्रकोप को देखते हुए केंद्र सरकार ने कुछ दिन पहले ही 15 अप्रैल तक कई देशों के सैलानियों के वीजा रद्द करने के आदेश दिए थे।

उसके बाद से ही ताज और अन्य स्मारक निहारने वालों की संख्या में कमी आई थी। अभी भी कुछ विदेशी पर्यटक ताजमहल देखने आ रहे थे। पर्यटन मंत्री प्रहलाद पटेल ने सोमवार को अपने ट्वीट में कहा- सभी संबंधित अधिकारी तत्परता और सावधानी बरतें।

उत्तर प्रदेश में कोरोनावायरस (कोविड-19) संक्रमण को महामारी के समकक्ष घोषित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में सभी स्कूल व कॉलेजों को अब दो अप्रैल तक बंद करने की घोषणा की है। पहले स्कूल व कॉलेजों को 22 मार्च तक बंद रखने का निर्देश जारी किया गया था। सरकार ने इसका समय बढ़ाने का निर्णय 20 मार्च को समीक्षा के बाद करने की योजना बनाई थी, लेकिन आज ही आदेश जारी कर दिया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना वायरस के बचाव के इंतजाम की हर प्रकार की मॉनिटरिंग खुद ही कर रहे हैं। मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रदेश में समय-समय पर एडवाइजरी जारी की जा रही है।उत्तर प्रदेश में अब तक कुल 15 लोगों में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया था, जिसमें से आगरा के चार लोग नई दिल्ली से स्वस्थ होकर लौटे हैं।

आगरा में आठ, नोएडा में तीन, लखनऊ व गाजियाबाद में दो-दो कोरोना पॉजिटिव हैं। लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के साथ ही संजय गांधी पीजीआई, गोरखपुर के बाब राघव दास मेडिकल कॉलेज तथा लखनऊ के डॉ. राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस व बलरामपुर अस्पताल में इससे संक्रमित लोगों को भर्ती करने की सुविधा है।

इसके साथ ही किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज में इसके सैंपल जांचने की सुविधा प्रदान की जा रही है। प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में आइसोलेशन वॉर्ड बनाया गया है। प्रदेश की सभी सीमा पर पर्याप्त सर्विलांस सिस्टम लगा है