ALL राज्य , शहर प्रमुख खबर खेल अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
सी यच सी जसरा के अधीक्षक की गुंडई व दबंगई आई सामने, एम्बुलेंस कर्मचारी को किया बेइज्जत ,मरीज को नही किया भर्ती
March 25, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • राज्य , शहर

 

लालापुर /प्रयागराज, (स्वतंत्र प्रयाग) लालापुर,थाना क्षेत्र के इछौरा गाँव की एक बुजुर्ग 60 वर्षीय महिला को 108 एम्बुलेंस उच्चीकृत प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सीएचसी जसरा ले कर पहुँची  तो सी यच सी के अधीक्षक बुजुर्ग महिला को भर्ती करने की बात तो दूर  उल्टा  एम्बुलेंस के कर्मचारी पर भड़क गए भला बुरा कहने लगे जब महिला के साथ गए तीमारदारों ने बात किया तो उनको भी उल्टा सीधा कह कर भगा दिए जिससे लोगो मे अधीक्षक के गुंडई पूर्ण रवैया से आक्रोश है।    
       

बताते चले कि की विकासखण्ड शंकरगढ़ के लालापुर थाना क्षेत्र के इछौरा गाँव  की एक बुजुर्ग 60 साल की महिला को 108 एम्बुलेंस से लेकर जसरा सी यच सी पहुँचे  तो वहां पर सी यच सी के अधीक्षक तरुण पाठक ने एम्बुलेंस के कर्मचारी से पूछा कहा से मरीज लाये हो कर्मचारी ने कहा इछौरा से बस क्या डॉक्टर साहब का पारा सातवे आसमान पर  पहुँच गया और  एम्बुलेंस के कर्मचारी के ऊपर भड़क गए खूब खरी खोटी सुनाई बीमार महिला के साथ जो तीमारदार थे उनको भी उल्टा सीधा कहा और कहा भाग जाओ।
 

जबकि किसी भी विकासखण्ड का बीमार हो उसका  किसी भी सी एच सी अस्पताल  में इलाज करवाया जा सकता है।
 किन्तु सी यच सी जसरा के डॉक्टर इलाज तो किया नही उल्टा  सभी को भला बुरा कहने लगे अब सवाल यह खड़ा होता है कि इस समय देश इतनी बड़ी महामारी से जूझ रहा है।
 

बीमारी की हालत में मरीज कहा जाय  पुलिस भी किसी को निकलने  नही देती ऐसी स्थिति में जनता कर्फ्यू के पालन के साथ बीमारों को एम्बुलेंस से ही  तो ले जाएगा जब सी यच सी के अधीक्षक की यह गुंडई दबंगई रहेगी तो बीमार व्यक्ति  कहा जायेगा।।                                

 सबसे सोचनीय पहलू यह भी है कि सी यच सी जसरा में तरुण पाठक जी बहुत लंबे समय से तैनात है अपने आपको किसी मंत्री का रिश्तेदार भी बताते है किसी भी मरीज को सी यच सी में नही देखते है अपने कमरे में मरीजो को देखते है जो आसानी से उच्चाधिकारी चेक करना चाहे तो चेक  कर सकते है किंतु तरुण पाठक की उनके कहने के अनुसार मंत्री है हमारे रिश्तेदार   मेरा कोई भी कुछ नही बिगाड़  पायेगा उनकी बातों से लगता भी है।

 कि मरीजो के साथ अभद्रता करना ए एन एम से भी मनमानी  करना अपने आवास पर मरीजो को देखना और प्रति मरीज सौ से दो सौ फीस लेना ये सब  तमाम बाते है।
 अब बात जो भी हो यह तो अधिकारी ही जाने किन्तु सी यच सी के अधीक्षक काफी अर्से से  यहाँ जमे हुए  है और किसी  की  भी नही सुनते। इस संबंध में  डॉक्टर साहब से बात करने की कोशिश  की गई तो उनका फोन ही नही रिसीव हुआ ।

एक सी यच सी के अधीक्षक का इस समय फोन न रिसीव हो जनता के साथ इस तरह का बर्ताव हो तो भगवान ही मालिक है। क्षेत्रीय लोगो ने सी यच सी के डॉक्टर की मनमानी रवैया व गुंडई को रोकने  के लिए  जिलाधिकारी प्रयागराज से लोगो ने जोरदार मांग किया है।