ALL प्रमुख खबर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राज्य , शहर खेल आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
प्रधानमंत्री  की एक अपील पर जगमगाया पूरा देश, सभी ने दिया  एक होने  का संदेश
April 6, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • राष्ट्रीय


नई दिल्ली,(स्वतंत्र प्रयाग) कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद देशभर में लोगों ने दीया और मोमबत्ती जलाकर एकजुटता का सबसे बड़ा संदेश दिया. कोरोनावायरस के अंधकार के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर देशवासियों ने रविवार रात 9 बजे 9 मिनट तक लाइटें बंद कर दीया, मोमबत्ती, टॉर्च और फोन की फ्लैश लाइट जलाई।

प्रधानमंत्री ने शनिवार को ट्विटर पर अटल बिहारी वाजपेयी की कविता ‘आओ फिर से दीया जलाएं’ शेयर की  इसके जरिए देशवासियों को रविवार रात 9 बजे दीया-मोमबत्ती जलाने का वादा याद दिलाया  इससे पहले मोदी ने कोरोना संकट पर अपने तीसरे संबोधन में कहा था कि हमें 5 अप्रैल को अपनी महाशक्ति का जागरण करना है।

ताकि लॉकडाउन के दौरान घरों में मौजूद लोग खुद को अकेला महसूस न करें  मोदी की इस अपील के बाद रविवार रात 9 बजे, तक पूरे देश में लोगों ने दीया, मोमबत्ती और मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाई कई जगहों पर दीयों के साथ पटाखे भी फोड़े गए तो कहीं शंख और घंटी-घड़ियाल के बजने की आवाज सुनाई दी।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह,लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला, उत्तर प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित, सीएम योगी आदित्यनाथ, डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य, राज्यपाल आनंदी बेन पटेल समेत कई मंत्रियों और नेताओं ने एक साथ मिलकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के आह्वान की सफलता के लिए अपने अपने घरों व सरकारी आवासों पर दिप जलाए।

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने अपनी पत्नी उषा के साथ यहां अपने आवास में दीप जलाये  नायडू के हवाले से एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि भारत के लोगों ने प्रधानमंत्री की अपील पर अपनी जबरदस्त प्रतिक्रिया के जरिये एक बार से यह जता दिया कि देश इस महामारी से पैदा हुए संकट से उबरने के लिये कृत संकल्पित है।

रविवार रात नौ बजते ही, ज्यादातर घरों में बत्तियां बुझा दी गईं और लोगों ने बालकनी में खड़े होकर मोबाइल फोन की फ्लैशलाइट जलाई कइयों ने दीये और मोमबत्ती भी जलाये. उस दौरान आतिशबाजी, थाली बजाने की आवाज, सीटी और पुलिस वाहन की सायरन भी सुनाई दी।

कुछ स्थानों पर हिंदू भक्ति गीत बजाये गये तो कहीं मंत्रोच्चार किया गया केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दीये जलाने के शीघ्र बाद मीडिया से बात करते हुए कहा कि यह एक छोटा सा कार्य देश की एकजुटता का एक बड़ा संदेश लिये हुए हैं।

हालांकि, कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस नेता एवं राज्य सभा सदस्य डेरेक ओ ब्रायन ने आज रात एक मिनट का एक वीडियो जारी कर सरकार से पार्टी की नौ मांगों का उल्लेख किया  वीडियो में एक अंधेरे वाली पृष्ठभूमि में एक मोमबत्ती जलती हुई दिख रही है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली सहित देश के विभिन्न राज्यों में बड़ी संख्या में लोगों ने रात नौ बजे नौ मिनट के लिये दीये, मोमबत्ती, मोबाइल फोन की फ्लैशलाइट जलाई  महाराष्ट्र में राकांपा प्रमुख शरद पवार, गायिका लता मंगेशकर, महानायक अमिताभ बच्चन और कई अन्य अभिनेता-अभिनेत्रियों सहित बॉलीवुड हस्तियों ने भी प्रधानमंत्री की अपील पर ऐसा किया।

गुजरात के अहमदाबाद से कुछ लोगों के ‘भारत माता की जय’ और ‘वंदे मातरम’ जैसे नारे लगाने तथा अन्य के आतिशबाजी करने की भी खबरें हैं  मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कुछ स्थानों से हिंदू भक्ति गीत बजाने, मंत्रोच्चार करने और राष्ट्रगान बजाने की खबरें हैं।

इस मौके पर तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने चेन्नई स्थित राजभवन में नौ मिनट के बत्तियां बुझा दीं  छत्तीसगढ़, झारखंड और गोवा से भी बत्ती बुझाने और दीये आदि जलाये जाने की खबरें हैं  हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में ठीक रात नौ बजे जिला प्रशासन ने सायरन बजाये।

कुछ लोगों ने पटाखे भी जलाये  उल्लेखनीय है कि यह दूसरा मौका है जब मोदी ने जारी ‘लॉकडाउन’ के दौरान इस वैश्विक महामारी के खिलाफ लोगों को एकजुट करने की कोशिश की  लॉकडाउन से ठीक पहले 22 मार्च को ‘‘जनता कर्फ्यू ’’के दौरान भी लोगों ने प्रधानमंत्री की अपील पर ताली, थाली, और घंटी आदि बजा कर कोरोना वायरस संकट का मुकाबला कर रहे स्वास्थ्यकर्मियों का उत्साह बढ़ाया था।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार कोरोना वायरस संक्रमण के कारण 11 और लोगों की मौत हो गयी, जिससे मृतकों की कुल संख्या बढ़कर 79 हो गयी है  पिछले 24 घंटों में 472 नए मामलों के साथ अब तक 3,374 लोगों के इस वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की गई है।

इस वैश्विक महामारी से दुनिया भर में 65,600 लोगों की मौत हो चुकी है और 10 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं मोदी ने कोरोना वायरस महामारी को फैलने से रोकने के लिये 24 मार्च को 21 दिनों के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी और यह उसी रात मध्य रात्रि से प्रभावी हो गया था।