ALL राज्य , शहर प्रमुख खबर खेल अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
निजी भूमिधरी जमीन पर दबंग कर रहे अवैध खनन मना करने पर जान से मारने की दि  धमकी
March 20, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • राज्य , शहर

  बारा,प्रयागराज,( स्वतंत्र प्रयाग),बारा  थाना क्षेत्र के परवेजाबाद पहाड़ी पर अमर बहादुर पुत्र विन्देश्वरी  प्रसाद राजाराम पुत्र शिवसरन परवेजाबाद निवासी तथा मोहनलाल अधिवक्ता पुत्र गरीबचन्द निवासी गोंदिया का पूरा की निजी भूमिधारी  जमीन है।

जिस पर बारा खास निवासी राजबहादुर यादव अपनी जेसीबी मसीन से दबंगई से जबरदस्ती सिलिका सैंड तथा मिट्टी की खुदाई करवा रहा है, मना करने पर जान से मारने की धमकी देता है भुक्तभोगी गणों ने अवैध खनन के संबंध में इलाके की  पुलिस को भी जानकारी दिया किन्तु कार्यवाही की बात तो दूर कोई देखने तक नही गया।

 भुक्तभोगिओ ने दोबारा अवैध खनन की शिकायत उपजिलाधिकारी बारा श्री इंद्रभान तिवारी को लिखित रूप से दिया किन्तु उपजिलाधिकारी जैसे जनरल मामले में पुलिस को आदेश करते है उसी तरह आदेश दे दिया।
 

कोई कार्यवाही नही हो पाई दोबारा खनन माफिया जो काफी दबंग है लगभग आधा दर्जन ट्रैक्टर ले कर जबरन  खनन करने लगा  तो भुक्तभोगी गण विरोध करने लगे तो  परवेजाबाद के ही तेजबहादुर पुत्र राम प्रताप के साथ मिलकर जबरन अवैधखनन करने लगे भुक्त  भोगियो ने विरोध किया तो जान से मारने की धमकी देने लगे 
 कहा जो करना हो कर लो जहा शिकायत करनी है करो मेरे खिलाफ कुछ नही होगा।

भुक्तभोगिओ ने एक लिखित शिकायती प्रार्थना पत्र खबर प्रकाशन के लिए दिया तो स्वतंत्र प्रयाग अखबार के रिपोर्टर जब उपजिलाधिकारी बारा से अवैध खनन के संबंध में पूछा तो उनका जबाब न्याय संगत नही रहा  उल्टा पत्रकार को ही पत्रकारिता बताने लगे।
 

अब सवाल यह उठता है कि माननीय उच्चन्यायालय तथा मुख्यमंत्री जी अवैध खनन किसी भी तरह न हो इस पर खनन नीति में बदलाव करके अवैध खनन रोकने का प्रयास कर रहे है तो वही दूसरी तरफ जो अधिकारी तथा जिम्मेदार खुद अवैध खनन को नही रोक रहे है  तो इससे साफ प्रतीत होता है कि ये अधिकारी खुद जिम्मेदार है अवैधखनन को बढ़ावा देने में लगे है।

 यही नही जहा का प्रकरण है परवेजाबाद पहाड़ी पर निरंतर अवैध खनन तथा ओवरलोडिंग का कार्य काफी अर्से से चल रहा है जिसकी शिकायत मुख्यमंत्री जी के जनसुनवाई पर दर्जनों बार की गई किन्तु संबंधित अधिकारी खानापूर्ति करके जनसुनवाई का जबाब मुख्यमंत्री के यहां भेज देते है।
 

इसको रोकने का प्रयास ही नही करते अगर कोई भी पब्लिक का आदमी राजस्व की चोरी हो रही है शिकायत कर तो उसकी क्षेत्र में बुराई भी हो जाती है कोई कार्यवाही भी नही होती है।

 ऐसी स्थिति में शिकायत करता भी अपने आपको ठगा महसूस  करता है अब बात जो भी हो यह तो जांच का विषय है किंतु यह प्रकरण तो केवल बानगी है बारा क्षेत्र में अवैध खनन भारी पैमाने पर किया जा रहा है।

जिसमे माननीय न्यायालय के आदेशों की धज्जियां तो उड़ाई ही जा रही है साथ ही साथ अवैध खनन करने वाले  माफियाओ के हौसले भी बुलंद हो रहे है। भुक्तभोगी सहित ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री से अवैध खनन रुकवाने तथा माफियाओ के खिलाफ कार्यवाही की मांग किया है।