ALL प्रमुख खबर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राज्य , शहर खेल आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
मुख्य मंत्री के यहाँ शिकायत के बाद भी नही रुक रहा है ओवरलोड परिवहन माननीय न्ययालय के आदेश की उड़ाई जा रही धज्जिया
February 8, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • राज्य , शहर


 प्रयागराज,(स्वतंत्र प्रयाग),बारा , बारा तहसील में वैसे तो अवैध खनन तथा ओवरलोडिंग का सिलसिला निरंतर चल ही रह था। किंतु अब देश की नामी गिरामी कम्पनी टाटा लिमिटेड भी इस कार्य मे लिप्त होती दिख रही है ।                       

बताते चले कि प्रयागराज के यन टी पी सी पहले जय प्रकाश एसोसिएट्स के पास थी बाद में इसे टाटा ने खरीद लिया
 इस यन टी पी सी से प्रतिदिन सैकड़ो टेलर राखड़ लोड करके अमेठी के गौरीगंज तथा रिलायन्स कंपनी रायबरेली ले जाते है इन टेलरों को छमता से अधिक माल लोड कर कम्पनी के द्वारा दिया जाता है।

 

जिससे रोड तो खराब होती ही है साथ साथ सरकार का जो राजस्व जो ओवरलोड का मिलता उसका नुकसान भी हो रहा है अब सवाल यह खड़ा होता है कि जब देश की नामी  कंपनी ओवरलोड दे कर भ्रस्टाचार को बढ़ावा दे रही है
 साथ ही माननीय न्ययालय के आदेशों की खुलेआम धज्जिया उड़ा रहा है तो आम लोगो की क्या स्थिति होगी।

यह सोचनीय बिषय है  की आर टी ओ प्रयागराज अपनी जेब भरने के चक्कर मे माननीय न्यायालय के आदेशों का खुलेआम मजाक उड़ा रहे है आम आदमी अगर न्यायालय के आदेश की।अवहेलना करे तो अवहेलना है किंतु सरकारी अफसर आर टी ओ हर 15 मिनट पर रात में ओवरलोड ट्रको को परिवहन करा रहे है तो ये अवहेलना नही है या इन्हें छूट दे दी गई है इसके पहले प्रदेश में कई आर टी ओ के खिलाफ सरकार ने कार्यवाही किया।
 

किन्तु प्रयागराज जनपद में कोई कार्यवाही नही हुई जिससे परिवहन विभाग संभागीय परिवहन अधिकारी अपने को खुद ही सरकार का करीबी मान बैठे है जबकि मुख्यमंत्री जी निरंतर भ्रस्टाचार को समाप्त कर रहे है। किंतु जो  अधिकारी है  सरकार को बदनाम करने में लगे हुए है  एक भाजपा के नेता से इस संबंध में बात की गई तो उन्होंने कहा कि सरकार को जबरदस्ती बदनाम करने की साजिश है किसी भी अधिकारी को नियम का उलंघन करने का अधिकार नही है।

अब बात जो भी हो यह तो संभागीय परिवहन अधिकारी ही जाने किन्तु ओवरलोडिंग का सिलसिला निरंतर चल ही रहा है जो थमने का नाम नही ले रहा है एक ड्राइवर से इस संबंध में बात की गई तो बताया कि ओवरलोड अगर सरकार चाहेगी तभी रुक सकता है।

 ऐसे नही रुकेगा उसने बताया कि ओवरलोडिंग अगर बन्द हो जाय तो प्रयागराज जनपद की आधी बेरोजगारी कम हो जाएगी । एक ट्रक मालिक से इस संबंध में बात की गई तो उनका कहना था कि अगर ओवरलोड बन्द हो जाय तो जो प्रयागराज जनपद में दस चक्का ट्रक खड़े है जिनकी क़िस्त नही जमा हो पा रही है।

 लोग भूखे मरने लगे  है इसका कारण यही टेलर है जो छोटी ट्रको से  काम को छीन लिए है ये टेलर चार ट्रक का अकेले ओवरलोड माल ले जाते है। जिससे छोटे ट्रको के चक्के  जाम हो गए है लगभग प्रयागराज जनपद में 20000 ट्रक खड़े हो गए है।
 

जिनकी क़िस्त नही जमा हो पा रही है टैक्स नही जमा हो पा रहे है लोग जो ट्रक के सहारे थे बेरोजगार हो गए है।
 भूखों मरने लगे है कारण ओवरलोड का बढ़ावा देना है जिसके सिर्फ जिम्मेदार आर टी ओ विभाग तथा स्थानीय प्रशासन है । 

 

इस संबंध में मुख्यमंत्री जनसुनवाई पर भी शिकायत की गई किन्तु वहाँ पर भी हीला हवाली की जाती है महज खानापूर्ति करके वहां से भी कोई कार्यवाही नही होती है।
मुख्यमंत्री जी के यहां से कोई कार्यवाही न होने से इन अधिकारियो के हौसले बुलंद हो रहे है।

 

अब बात जो भी हो यह तो विभाग ही जाने किन्तु सैकड़ो ट्रक ओवरलोड निकलते है जिससे सरकार का प्रतिदिन कई लाख रुपये राजस्व का नुकसान हो रहा है साथ साथ सरकार की मंशा पर पानी फेर रहे है अधिकारी तथा माननीय न्यायालय के आदेशों की खुलेआम धज्जिया उड़ाई जा रही है।