ALL प्रमुख खबर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राज्य , शहर खेल आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
मेरे लिए तो हर दिन वैलेंटाइन डे होता है जहां मोहब्बत मिली वही वैलेंटाइन डे :धर्मेंद्र
February 14, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • मनोरंजन

 

मुम्बई,(स्वतंत्र प्रयाग)  वैलेंटाइन डे के मौके पर दैनिक भास्कर से बातचीत में दिग्गज अभिनेता धर्मेन्द्र ने अपनी भावनाएं व्यक्त को  किया उन्होंने कहा,- मैं तो हमेशा अपने चाहने वालों को प्यार बांटते आया हूं  जब से इंडस्ट्री में आया हूं, तब से लोग मेरे बारे में पॉजिटिव ही पढ़ते रहे हैं मेरे वक्त में तो वैलेंटाइन डे के बारे में पता ही नहीं होता था  मेरे लिए तो हर दिन ही वैलेंटाइन डे होता था जहां मोहब्बत मिली, वहां वैलेंटाइन डे हो गया। 

 

जब गांव में रहता था तो मालूम ही नहीं होता था कि वैलेंटाइन डे किसे कहते हैं, यहां मुंबई आकर इसके बारे में पता चला  चूंकि लोगों को प्यार ही बांटा है तो मेरे फैंस  मुझे प्यार ही देते रहे हैं  पहले अपनी फिल्मों के जरिए, अब रेस्टोरेंट के जरिए या किसी भी जरिए उनका प्यार उन्हीं में बांट रहा हूं। 

जहां तक आप मेरे प्यार की दास्तां जानना चाह रहे हैं तो वह यह है जी कि, हेमा जी और हम फिल्मों में काम करते हुए अच्छे दोस्त बने  मुझे उनकी कंपनी पसंद थी और उन्हें मेरा साथ हम कई फिल्मों में एक-दूसरे के साथ आए  एक बार तो ऐसा टाइम था जब हम कई कई महीनों तक एक साथ शूटिंग कर रहे थे  जैसे-जैसे टाइम आगे बढ़ा हमारा एक दूसरे के प्रति आकर्षण बढ़ता गया मैं उनके नजदीक रहने के लिए कारण ढ़ूंढ़ा करता था  ऐसी ही हमारी कई सुखद यादें हैं।

एक बार तो 1975  साल में चरस फिल्म की शूटिंग के लिए जब हम माल्टा जा रहे थे तब प्लेन में हेमा जी की सीट के पास बैठने के लिए मैंने बहाना बना दिया था  मैंने पढ़ा है कि इस बारे में हेमा जी ने उनकी किताब में जिक्र किया है  आज हम यह सब याद करके हंसा करते हैं बाद में हम एक हुए उनके परिवार के सभी लोगों ने मुझे बड़े प्रेम से स्वीकार किया हां इतना जरूर था कि हमारे रिश्ते को लेकर उस समय कई कंट्रोवर्सीज जबरदस्ती खड़ी की गई थीं। 

मैंने पहले भी उन सब चीजों को साफ-साफ नकारा है और कहा है कि मैं उस किस्म का इंसान नहीं हूं जो अपने फायदे के लिए कुछ गलत करूं खैर हमारा वैलेंटाइन डे तो यही है कि प्यार बांटते चलो लोगों ने मुझे गरम धरम, ही-मैन, धरम पाजी जैसे नामों से पुकारते रहे अब इन्हीं प्यार-भरे नामों की सौगात उनके लिए लजीज खाने के सेंटर खोलकर लौटाना चाह रहे हैं  इससे पहले ‘गरम धरम’ का नाम दिया था अब इसी वैलेंटाइन डे पर हम  ही-मैन नाम के रेस्टोरेंट की सौगात लाए हैं जो करनाल में खुल रहा है।