ALL प्रमुख खबर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राज्य , शहर खेल आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
कवारेंटाइन सेंटर से आठ युवक भागे पुलिस ने बढ़ाई चेकिंग
April 16, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • राज्य , शहर

भोपाल,(स्वतंत्र प्रयाग) मध्य-प्रदेश में कोरोना धीरे-धीरे अपना पैर पसारता जा रहा है जिसके कारण लॉक डाउन की अवधि 3 मई तक के लिए बढ़ा दी गई है, लेकिन इस बात को न तो मरीज समझ रहे और न ही जनता जनार्दन  कोरोना से निपटने में पुलिस और प्रशासन हर मुमकिन कोशिश कर रहा है।

लेकिन, अभी भी लोग इनके सामने परेशानियां खड़ी कर रहे हैं ऐसा ही एक मामला शहर के राजेंद्रनगर थाना क्षेत्र में सामने आया  यहां के किंग्स पार्क मैरिज गार्डन, जिसे क्वारैंटाइन सेंटर बनाया गया है वहां से बुधवार दोपहर को 8 संदिग्ध युवक भाग निकले।

जानकारी मिलते ही पुलिस हरकत में आई और 3 युवकों को तो रात में ही किशनपुरा पुल से पकड़ लिया, जबकि बाकी 5 की तलाश की जा रही है पकड़े गए तीनों संदिग्धों को अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट किया गया है क्वारैंटाइन सेंटर से भागे 8 में से पांच युवकों के रिश्तेदार कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे।

यह सभी रानीपुरा इलाके के बताए जा रहे हैं, जो कोरोना के हॉटस्पॉट के तौर पर सामने आया है  इसी वजह से इनके सैंपल भी जांच के लिए भेजे गए हैं, जिसकी रिपोर्ट अभी नहीं आई है पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, सभी आठों युवक बुधवार दोपहर किंग्स पार्क मैरेज गार्डन के पीछे वाली दीवार कूदकर भाग निकले थे।

स्वास्थ्य विभाग की टीम जब जांच के लिए पहुंचीं तो उन्हें इनके भागने की जानकारी मिली  कोरोना संदिग्धों के क्वारैंटाइन सेंटर से भागने की सूचना मिलते ही आईजी विवेक शर्मा और डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने तत्काल शहर की सीमाओं पर पुलिस की चेकिंग बढ़ा दी।

वहीं, क्राइम ब्रांच एएसपी राजेश दंडौतिया की टीम भी युवकों की पड़ताल में जुट गई  इस घटना के बाद देवास, उज्जैन, धार, झाबुआ, खंडवा जिलों की पुलिस को भी अलर्ट कर दिया गया बता दें की मध्य प्रदेश के 52 जिलों में से 24 जिलों में कोरोना वायरस की महामारी फैल गई है  इन 24 जिलों में प्रदेश की करीब 59 प्रतिशत आबादी रहती है।

आंकडों के अनुसार 31 मार्च से अब तक प्रदेश में कोविड-19 संक्रमितों की संख्या 13 गुना बढ़ गई है मध्य प्रदेश में 31 मार्च को मात्र संक्रमित मरीज थे जो 16 अप्रैल को बढ़कर 980 हो गए  अधिकारियों का कहना है कि कोरोना वायरस के करीब 80 प्रतिशत मरीज मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल एवं इंदौर में हैं।