ALL प्रमुख खबर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राज्य , शहर खेल आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
जनता की सेवा में लगी 112 के पुलिस कर्मी कर रहे है अवैध वसूली रोकने की उठी मांग
February 26, 2020 • महेश त्रिपाठी • राज्य , शहर

 

 प्रयागराज ,(स्वतंत्र प्रयाग),मेजा, प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा जहां लोगों की सुरक्षा की दृष्टि से डायल 112 पुलिस की व्यवस्था करके उनकी समस्याओं के निदान करने का प्रयास किया है, वही डायल 112 पुलिस अपने मूल उद्देश्यों से भटक कर अवैध वसूली में मस्त है।

यह बात जग जाहिर है की डायल 112 पुलिस उसी रास्ते से गुजरती है जहां उसे अवैध वसूली का मामला मिल सके। लोगो द्वारा आपसी विवाद के दौरान जब डायल 112 को फोन मिलाते है तो समय समाप्त होने के बाद यानी विवाद के चलते डायल 112 को कॉल किया जाता है वह मामला खत्म होने के बाद ही वहां डायल 112 पहुंचती है, लेकिन अगर कहीं उसे सुराग मिल गया।

कि उस रास्ते से माल भरी पिकअप जा रही है, बालू लदा ट्रैक्टर जा रहा है, पत्थर लदा ट्रैक्टर जा रहा है तो वह गलियों से घूमते हुए बाज की तरह उस पर झपट पड़ते हैं। वह भी मात्र 100-200 रुपये के लिए। जैसे उनके यह दिमाग में घुस गया हो या ट्रेनिंग के दौरान सिखाया जाता रहा हो कि पुलिस की नौकरी में अवैध वसूली जायज होती है।

अभी तक तो थाने और चौकी के पुलिस को देखा जाता रहा है कि अवैध वसूली की जाती है, लेकिन डायल 112 उस पर भारी पड़ रही है। आँखों देखी घटना के मुताबिक सुबह 8.30 बजे कुर्की कला से एक पिक अप मांडा की तरफ जा रही थी, ठीक उसी समय कुर्की गांव से डायल 112 निकलकर मेजा की ओर मुड़ गई और उसकी निगाह जब पिकअप पर पड़ी तो चालक गाड़ी को तत्काल बैक कर पिकअप का पीछा करते हुए मिश्रपुर से पहले ही ओवर टेक कर लिया।

पिकअप के अंदर से एक हाथ निकाल कर डायल 112 चालक के बराबर करता है और डायल 112 का चालक अपना हाथ निकाल कर रुपया ले लेता है। उसके बाद चालक 112 को वापस मेजा की ओर मोड़ कर चल देता है। दूसरी घटना आज दोपहर लगभग 1 बजे की है जो मेजारोड चौकी से संबंधित बताया जा रहा है।

कुछ लोगों ने पुलिस की जीप पर मेजारोड से मांडा रोड की जा रही सरिया लदी गाड़ी (पिकअप) को रोक करके उससे अवैध वसूली करने लगे।एक प्रेस की गाड़ी देख गाड़ी को आगे बढ़ाकर वहां से एक दिवान पिकअप पर बैठकर आगे जाकर सरिया मालिक से पांच हजार ऐंठ लिया। इस घटना से लोगों में पुलिस के प्रति आक्रोश व्याप्त है। बताया जाता है कि पुलिस लोगों की मदद कम करती है, अवैध वसूली में ज्यादा मस्त रहती है। फिलहाल लोगों ने नवागत सीओ से ऐसे अवैध वसूली करने वाले पुलिसकर्मियों पर लगाम लगाने की मांग की है।