ALL प्रमुख खबर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राज्य , शहर खेल आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
जमातियों के हर पल पर आई बी की नजर, गृहमंत्रालय का थर्ड रिसीवर को रोकने पर जोर
April 26, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • राष्ट्रीय


नई दिल्ली,(स्वतंत्र प्रयाग)पूरे देश भर मे कोरोना महामारी की वजह से लॉक डाउन किया गया है, इस वायरस से हर तबका परेशान है, तो वहीं देश की आर्थिक हालात भी कहीं ज्यादा खराब नजर आ रहे हैं वहीं अब गृह मंत्रालय ने डीप डीटेल के ज़रिए अब मरकज़ मे शामिल हुए हर जमाती के पीछे खास तौर पर ऐसे जमाती जो कोरोना पॉज़िटिव हैं, उनकी ज़िम्मेदारी आईबी को सौंप दी है।

इनका काम कोरोना पॉज़िटिव जमाती व अन्य के ज़रिए तीसरे व्यक्ति मे वायरस को होने से रोकना है  आपको बताते चलें कि, देशभर मे मरकज़ मे शामिल हुए जामतियों को मस्जिदों मे लगातार छुपाकर रखा गया है, जिससे कोरोना कि संख्या मे तेजी से बढ़ोत्तरी हुई है देश मे अब तक 26,287 पॉज़िटिव हैं, जिसमे से 800 से ज्यादा लोगों कि मृत्यु हो चुकी है।

 

हाल ही मे इसका प्रकटिकल भी दिल्ली मे दिखा  दिलशाद गार्डन की पहली कोरोना पॉजिटिव महिला घर से बाहर निकली तो सीमापुरी थाने को तुरंत अलर्ट कर दिया गया  एकदम फिट होने के बाद क्वारंटीन की गई महिला की सटीक लोकेशन भेजी गई।

  पहली बार 19 अप्रैल शाम 4:00 बजे वह घर से 322 मीटर दूर बताई गई दूसरी बार 20 अप्रैल को दोपहर 2:00 बजे घर से 417 मीटर की दूरी पर होने की जानकारी दी गई  बिल्कुल इसी तरह देशभर के जमातियों और राजधानी के कोरोना पीड़ितों की पल-पल की गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है अगर ये अपनी बताई लोकेशन से थोड़ा सा भी इधर-उधर होते हैं तो इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल तुरंत अलर्ट हो जाती है।

विदेशी जमातियों पर भारत सरकार की खुफिया एजेंसी आईबी नजरें गड़ाए हुए है  दिल्ली हो या दूसरे राज्यों में फैल चुके जमाती, इन पर गूगल मैपिंग के जरिए नजर रखी जा रही है  आईबी इसके लिए राज्यों की खुफिया एजेंसियों की मदद भी ले रही है  दिल्ली में यह काम स्पेशल सेल कर रही है वह जमात से जुड़े मरीजों समेत सभी कोरोना पीड़ितों पर नजर रखे हुए है  गूगल मैपिंग के जरिए चल रही निगरानी की वजह से होम क्वारंटीन कि गए गए कई लोगों पर अब तक केस दर्ज हो चुके हैं।

देशभर की तमाम एजेंसियां कोरोना वायरस के थर्ड रिसीवर की खोज में लगी हुई हैं कोरोना के पहले मरीज के संपर्क में आने से यह वायरस दूसरे मरीज तक पहुंचा इसके बाद अब यह वायरस दूसरे से तीसरे शख्स तक पहुंच चुका है इसलिए सरकार की तमाम एजेंसियों की इसकी खोज में लगा दिया गया है  जहांगीरपुरी इलाके का मामला इस तरह का ही है इसमें 57 पॉजिटिव मामले सामने आए  यानी यह एक से दूसरे और फिर तीसरे में फैला होगा।

कोरोना के थर्ड रिसीवर की खोज

देशभर में फैले जमातियों को ट्रैक करने में आईबी लगी हुई है  वह राज्यों की खुफिया एजेंसियों की मदद भी ले रही है  देशभर में पकड़े गए जमातियों का डेटा बेस तैयार किया गया है  कोरोना पॉजिटिव मरीजों के ठीक होने और क्वांरटीन पीरियड पूरा करने वालों पर आगे भी नजर रखी जाएगी।

सूत्रों का दावा है कि करीब एक हजार जमाती देश के विभिन्न राज्यों में घूम रहे हैं, जो पकड़ में नहीं आए हैं  ये महामारी में खुफिया एजेंसियों के लिए चुनौती बने हुए हैं देशभर मे इन जमातियों का डेटा बेस बनाया गया है, जिससे अब ये कहीं भी जाएंगे तो इनकी जानकारी भारतीय खुफिया एजेंसियों को मिलती रहेगी।