ALL प्रमुख खबर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राज्य , शहर खेल आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
गांव में बेरोजगारी है,बेकारी है लेकिन भुखमरी नहीं है किसान परिवारों में लाख विपदाओं के बाद भी गांव में भूख से शायद ही कोई मरता हो: दिनेश तिवारी
May 14, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • राज्य , शहर

 

प्रयागराज,(स्वतंत्र प्रयाग), वैश्विक कोरोना महामारी में मुम्बई महाराष्ट्र,चेन्नई,गुजरात,बैंगलोर, राजस्थान,दिल्ली, हरियाणा छोड़कर यूपी के श्रमिक मजदूर अपने गांव क्यों भाग रहे हैं।पिछले 50 सालों में इन्ही मजदूरों की बदौलत पता नही कितनी आलीशान कोठियां,हाइवे सड़क,रेल लाइन,पुल और ऊँची ऊंची इमारतों के साथ बड़ी बड़ी कम्पनियां खड़ी हो गयी।

कई लोग करोड़पति और अरबपति हो गए,मगर संकट की घड़ी में श्रमिक मजदूरों को दो वक्त की रोटी नहीं दे सकें, अगिनत मिल व फैक्टरियों के मालिकों व ठीकेदारों ने मजदूरों को बिना पैसा दिए ही भगा दिया।यूपी के लोगों को भरोसा है कि गांव में भूखा नहीं मरेगा।

गांव में बेरोजगारी है,बेकारी है लेकिन भुखमरी नहीं है।किसान परिवारों में लाख विपदाओं के बाद भी गांव में भूख से शायद ही कोई मरता हो। जबकि गांव में वह भी कोई सरकारी सहायता सबको नही मिल पाता है।केवल सरकारी सहायता यदा कदा लोगों को भी मिल पाता हो।

कोई एनजीओ रॉशन बांटने नहीं गांव में नही जाता है। एनजीओ केवल शहर या प्रमुख बाजारों की सड़कों तक सीमित है।गांव अपने बूते पर जिन्दा है।क्योंकि अनाज पैदा करते है।लेकिन शहर ज्यादा दिन अपने बूते जिन्दा नहीं रह सकते। क्योंकि न तो वो अनाज पैदा करते हैं, न पानी पैदा करते हैं। वो जो पैदा करते हैं, उसे खा नहीं सकते।पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी जी ने कहा था भारत की गांव में बसती है।

अब यूपी के गांव में भी योगी सरकार सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्योगों के जरिये कायाकल्प करेंगे।जो सराहनीय कदम है,निश्चित तौर से गांव की प्रतिभाओं का सदुपयोग होने से यूपी समृद्धशाली प्रदेश बन जायेगा भारतीय सभ्यता ही इक्कीसवीं सदी में गांव शहरों से श्रेष्ठ हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वैश्विक महामारी में भारतीय गांव के विकास को गति में कोई रुकावट न आये।आत्मनिर्भरता की नीति पर आगे बढ़ते हुए समाज के हर वर्ग किसान,श्रमिक,सूक्ष्म,लघु एवं मध्यम उद्यम का आर्थिक विकास के क्षेत्र में पैकेज की घोषणा किया। 'लोकल को वोकल' बनाने का मंत्र जो नए भारत के विकास यात्रा में एक मिल का पत्थर साबित होगा।अब गांव की तस्वीर बदलेगी,किसान का जीवन खुशहाली की ओर बढेगा।