ALL प्रमुख खबर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राज्य , शहर खेल आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
आम लोगो के मदद के लिए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर
March 28, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • राष्ट्रीय


नई दिल्ली,(स्वतंत्र प्रयाग)कोरोना वायरस के संक्रमण से देश और दिल्लीवासियों को बचाने के लिए किए गए लॉक डाउन के कारण हो रही दिक्कतों का सकारात्मकता से सामना करने की अपील के साथ ही दिल्ली भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने आवश्यक सहायता के लिए हेल्पलाइन नंबर 8010066066 जारी करते हुए कहा कि लॉक डाउन के दौरान सरकारी संस्थाएं एवं सामाजिक संस्थाएं एकजुट होकर कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने में अपना योगदान दे रही है।

इस विषम परिस्थिति में दिल्ली के लोगों की किसी प्रकार की आवश्यकता व मदद के लिए दिल्ली भाजपा ने सेवा भारती के साथ मिलकर एक हेल्पलाइन शुरु किया है जहां लोग डॉक्टरों से किसी प्रकार की जानकारी या परामर्श ले सकते हैं और सहायता के लिए संपर्क कर सकते हैं।

आवश्यक सहायता के लिए भाजपा कार्यकर्ता कम से कम समय में आप तक मदद पहुंचाएंगे  दिल्ली प्रदेश भाजपा दिल्ली वासियों की सेवा के लिए सदैव तत्पर है तिवारी ने कहा कि यह चिंता का विषय है कि दिल्ली से कई मजदूर पैदल चलकर उत्तर प्रदेश बॉर्डर पर पहुंच रहे हैं।

क्या साजिशन यह अफवाह फैलाई गई कि यूपी बॉर्डर से घर जाने के लिए बसें मिल रही है? मैं धन्यवाद करता हूं योगी सरकार का धन्यवाद जिन्होंने समय पर बस की व्यवस्था करवाई और स्थिति को नियंत्रण में करते हुए लोगों को उनके गांव पहुंचाया ।

दिल्ली सरकार को जरूरत है कि वह प्रेस कॉन्फ्रेंस करने के बजाय ग्राउंड पर जाकर लोगों की मदद करें सभी मजदूर भाई-बहनों से लॉक डाउन के दौरान संयम और धैर्य बनाए रखने की अपील करते हुए तिवारी ने कहा कि मेरी सभी से यही प्रार्थना है कि आप जहां है वही रूकें, किसी को भी घबरा कर घर से बाहर निकलने की जरूरत नहीं है।


आप घर में रहकर ही सुरक्षित रह सकते हैं  केंद्र सरकार ने सभी के लिए खाने और जरूरत की चीजों को ध्यान में रखते हुए संपूर्ण व्यवस्था की है और भाजपा का प्रत्येक कार्यकर्ता उन व्यवस्थाओं को आप तक पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है।

दिल्लीवासियों से भी मेरी अपील है कि अगर आपको कोई ऐसे मजदूर भाई-बहन मिले जो व्यवस्थाओं के अभाव में शहर छोड़कर जा रहे हैं उन्हें हेल्पलाइन नंबर 8010066066 जरूर दें ताकि हम उन तक पहुंच कर उनकी सहायता कर सकें।