ALL प्रमुख खबर राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय राज्य , शहर खेल आर्थिक मनोरंजन स्वतंत्र विचार अन्य
आज किसानों के लिए सौगातों का ऐलान करेगी वित्तमंत्री सीतारमण
May 14, 2020 • एस पी एन न्यूज़ डेस्क • आर्थिक


नई दिल्ली,(स्वतंत्र प्रयाग) कोरोना वायरस के कारण मंद पड़ी अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और इस संकट को एक अवसर के रूप में बदलने के लिए 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पैकेज की जो घोषणा की गई है उसके राहत की दूसरी खुराक ऐलान आज फिर केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण प्रेस कॉन्फ्रेंस कर करेंगी।

बताया जा रहा है कि सीतारमण आज कृषि सेक्टर और उससे जुड़ी गतिविधियों को लेकर बड़ा ऐलान कर सकती हैं  इसके साथ ही सप्लाई चैन को दुरुस्त करने के लिए मोदी सरकार बड़ी राहत दे सकती है बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान किया था जिसके बाद बुधवार को उसकी पहली किस्त का ब्योरा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने दिया।

आर्थिक पैकेज की पहली किस्त में छोटे उद्योगों में काम करने वालों पर राहत बरसाई गई है  पहली किस्त में MSME के लिए तीन लाख करोड़ रुपए का कोलेट्रल फ्री ऋण देने का प्रावधान किया गया है  यह ऋण 4 साल के लिए होगा और पहले एक साल मूलधन का भुगतान नहीं करना होगा।

वित्त मंत्री ने कहा कि इसके तहत 100 करोड़ रुपए के कारोबार वाले MSME को 25 करोड़ रुपए तक का ऋण मिलेगा  बैंकों और एनबीएफसी के लिए शतप्रतिशत गारंटी कवर मिलेगा  यह योजना 31 अक्तूबर 2020 तक उपलब्ध होगी  45 लाख उद्यमियों को इससे लाभ होगा  वित्त मंत्री ने कहा कि इसके साथ ही एमएसएमई के परिभाषा में बदलाव किया गया है।

एमएसएमई की नई परिभाषा में माइक्रो उद्यम में एक करोड़ रुपए तक का निवेश किया जा सकेगा और इसके कारोबार की सीमा पांच करोड़ रुपए होगी इसी तरह से लघु उद्यम में 10 करोड़ रुपये का निवेश किया जा सकेगा और इसका कुल वार्षिक कारोबार 50 करोड़ रुपए का होगा।

मध्यम उद्यम में 20 करोड़ रुपये तक निवेश होगा और इसका कुल कारोबार 100 करोड़ रुपए तक का होगा उन्होंने कहा कि इसके साथ ही तनावग्रस्त एमएसएमई की मदद के लिए 20 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है  इससे ऐसे एमएसएमई को लाभ होगा जो एनपीए या नतावग्रस्त है।

इससे दो लाख से अधिक एमएसएमई को लाभ होगा  एमएसएमई में 50 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया जाएगा जो बेहतर कारोबार कर रहे हैं उनके लिए 10 हजार करोड़ रुपए का फंड ऑफ फंड की स्थापना की जाएगी  इससे एमएसएमई को शेयर बाजार में सूचीबद्ध कराने में मदद मिलेगी।